February 23, 2024
bhai ne choda sagi bahan ko

इस कहानी में भाई ने चोदा सगी बहन को चोदा! मैं अपनी शादीशुदा बहन की चूत का मजा लेना चाहता था. उसे भी लंड की जरूरत थी क्योंकि जीजाजी बहुत दिनों के बाद घर आते थे.

आप सभी पाठकों का Readxstories.com वेबसाइट पर स्वागत है।

मैं कोई लेखक नहीं हूं और न ही यह कोई कहानी है.
यह मेरे जीवन में घटी एक घटना है जिसे मैं शब्दों में बताने का प्रयास कर रहा हूँ कि कैसे भाई ने अपनी सगी बहन को चोदा!

मेरा नाम रोहित हे। मैं इंदौर का रहने वाला हूँ लेकिन पढ़ाई के कारण दिल्ली के हॉस्टल में रहता हूँ।
मेरी उम्र 22 साल है, कद 5 फीट 6 इंच है.
मेरे परिवार में माँ, पिताजी, बड़ा भाई और दो बड़ी बहनें हैं।
दोनों बहनों की शादी हो चुकी है और बड़ा भाई पढ़ाई के लिए विदेश में रहता है।

बड़ी बहन का नाम टीना (बदला हुआ) है.
उसकी हाइट 5 फीट 5 इंच है और उम्र 25 साल है, रंग गोरा है और फिगर 32-28-34 है.
और छोटी बहन का नाम सोनिया (बदला हुआ) है, कद 5 फीट 5 इंच, उम्र 23 साल, रंग गोरा और फिगर 32-28-34 इंच है.

मेरी दोनों बहनें ऐसी हैं कि उन्हें देख कर बड़े से बूढ़े आदमी का भी लंड खड़ा हो जाये.

घटना एक साल पहले की है जब त्योहार के चलते सभी लोग घर पर इकट्ठा हुए थे.
लेकिन बड़े जीजाजी काम के कारण और भाई अपने इंटरव्यू के कारण नहीं आ पाये।

सुबह का समय था, बड़ी बहन नहाकर हॉल में तैयार होने लगी, जहाँ मैं पहले से ही मौजूद था।

लाइट के सामने खड़े होने के कारण पेटीकोट में से उसकी गोरी जांघें और कसी हुई गांड साफ दिख रही थी.
और उसके बड़े और गोल स्तन मुझे अपनी ओर आकर्षित कर रहे थे.

इस घटना से मेरा अपनी बहन के प्रति नजरिया बदल गया और मैं अपनी बहन को चोदने के बारे में सोचने लगा.
लेकिन भाई-बहन के रिश्ते के कारण मैं कुछ नहीं कर सका.

फिर मैंने सोचा कि क्यों न अपनी बहन को भी चुदाई के लिए तैयार किया जाए!

इसलिए मैंने अपनी बहन की दोस्त टीना के नाम से एक फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाया और उसे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी।

कुछ देर बाद दीदी ने फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली और मुझे मैसेज करके बोलीं- टीना, कैसी हो?
मैं (टीना)- मैं ठीक हूं और आप कैसी हैं और कहां हैं?
मेरी बहन याशिका- बस कट रही है. अभी मैं गांव में घर पर हूं.

मैं (टीना)- क्या फट रहा है? तुम्हारा किसने फाड़ा?
याशिका- अरे, ये फट नहीं रही है, कट जा रही है. इसे कौन तोड़ने वाला है?

मैं (टीना)- फाड़ने वाले जीजाजी क्यों चले गए?
याशिका- अरे यार, वो तो काम के सिलसिले में बाहर रहते हैं. दो-तीन महीने में ही घर आना होगा.

मैं (टीना)- अरे तभी तो तुम्हारी बातों में मिठास नहीं है!
याशिका- अरे ऐसा कुछ नहीं है यार! यह तो बस ऐसे ही है! और तुम बताओ हमारा जीजाजी कहाँ है? क्या वे तुम्हें खुश रखते हैं या नहीं?

मैं (टीना)- अरे अब तुम मुझसे क्या छुपा रही हो? मैं आपका बचपन का दोस्त हूं, आपकी बातों में सेक्स की कमी साफ झलकती है. जहां तक मेरी बात है तो मेरे पति भी बाहर रहते हैं लेकिन मुझे उनकी कमी महसूस नहीं होती.

याशिका- अरे, सेक्स नहीं, हम बस कम समय बिताते हैं। और जब तुम्हारा पति दूर है, तो तुम्हें उसकी याद कैसे नहीं आती?
मैं (टीना)- ये राज़ है… लेकिन क्या मैं तुमसे एक बात पूछ सकता हूँ? क्या आप मुझे सच बता सकते हैं?
दीदी- हां पूछो!

मैं (टीना)- सच-सच बताओ, क्या तुम्हें चोदने का मन नहीं करता?
याशिका- हां, करता है, लेकिन मैं क्या कर सकती हूं?

मैं (टीना)- किसी और से चुदवा लेना!
याशिका- तुम किसी और से कैसी बातें कर रहे हो?

मैं (टीना)- तुम्हारा पति या मेरा पति 2-3 महीने तक बिना किसी को चोदे क्यों रह सकते हैं, तुम बताओ?
याशिका- हाँ, मर्द तो कुत्ते की पूँछ होते हैं… इतनी देर तक चोदे बिना नहीं रह सकते!

मैं (टीना)- तो सोचो, अगर वो किसी और को चोद सकते हैं तो हम भी किसी और से चुदवा सकती हैं.
याशिका- हां, आप सही कह रहे हैं. लेकिन किसी और से?

मैं (टीना)- कोई बाहर का लड़का पटाओ!
याशिका- नहीं यार, पकड़े जाने और ब्लैकमेलिंग का डर है.

मैं (टीना)- तुम सही हो.
याशिका- मेरी भूख मिटाने का कोई और उपाय बताओ!

मैं (टीना)- एक उपाय है जो मैं अपने लिए भी इस्तेमाल करती हूं लेकिन शायद तुम नहीं कर पाओगी!
याशिका- बताओ यार, मैं सब कुछ करने की कोशिश करूंगी.

मैं (टीना)- लगता है तुम्हारी चूत बहुत मचल रही है चुदवाने के लिए!
याशिका- सच बताऊं तो हां … मैं अभी बिना चोदे नहीं रह सकती. बताओ मित्र, तुम क्या करते हो?

मैं (टीना)- पहले वादा करो कि जो मैं तुमसे कहूंगा तुम वो करने की पूरी कोशिश करोगी.
याशिका- हां बताओ यार … मैं हर संभव कोशिश करूंगी.

मैं (टीना)- तो सुन, अपने भाई से चुदवा ले!
याशिका- क्या बात कर रहे हो? तुम पागल तो नहीं हो गये? क्या कोई अपने भाई के साथ ऐसा करता है?

मैं (टीना)- मैं करता हूं. देखिये, इसमें कई फायदे हैं, एक तो आपका भाई किसी को बताएगा नहीं और ब्लैकमेलिंग का डर भी नहीं रहेगा और साथ ही पकड़े जाने का भी डर नहीं रहेगा. और तो और…वह आपकी हर बात मानेगा।
याशिका- हां, आप सही कह रहे हैं. लेकिन भाई के साथ? आप पागल हैं। यदि कोई अन्य समाधान हो तो कृपया मुझे बताएं।

मैं (टीना)- देखो, मेरे पास एक ही उपाय है जिसे मैं काफी समय से आजमा रही हूं. और यह सुरक्षित भी है. और रही बात तेरे न करने की तो… तू तो चुदाई के लिए तरसती रहती है! देखो, तुम्हारा भाई भी छोटा है और भाई होने से पहले वह एक जवान लड़का है जिसकी भी कुछ ज़रूरतें हैं।

याशिका- हां, सब ठीक है. लेकिन भाई के साथ कैसे?
मैं (टीना)- देखो, तुमने वादा किया था और अब तुम अपना वादा तोड़ रही हो!

याशिका- ठीक है, मैं कोशिश करूंगी. और मैं यह तभी करूंगा जब यह सही लगेगा, अन्यथा नहीं! लेकिन मैं कैसे देखूँ कि वो भी मुझे चोदना चाहता है?
मैं (टीना)- अपने भाई को पटाओ, उसे अपनी ओर आकर्षित करो, उसके सामने अपने स्तन हिलाओ और देखो कि क्या वह भी तुम्हें चोदना चाहता है!

याशिका- ठीक है, मैं कोशिश करूंगी. ठीक है, मैं बाद में बात करूंगा.

फिर मैं अपने कमरे में सोफे पर बैठ गया और अपना मोबाइल चलाने लगा.

तभी दीदी कमरे में आईं और झाड़ू लगाने लगीं और अचानक उनकी साड़ी नीचे फर्श पर गिर गई, जिससे उनके 34″ के स्तन साफ़ दिखने लगे और मैं उन्हें देखकर चौंक गया।

इससे मेरा लंड खड़ा होने लगा.

तभी अचानक मेरी बहन मेरे पास आई और बोली- सोफे के पीछे बहुत धूल है!
और वो नीचे झुक कर पीछे से धूल साफ करने लगी, जिससे उसके स्तन मेरे मुँह पर लगने लगे.

मैंने कहा- क्या कर रही हो भाभी? बस मुझे देखो!
तो उसने कहा- रुको… मैं धूल साफ कर दूं!

मैंने भी जोश में आकर उसके दोनों स्तन पकड़ कर दबा दिये।
तभी उसके मुँह से आह निकल गयी.

लेकिन उन्होंने कुछ नहीं कहा.
शारीरिक गर्मी के कारण मेरा लिंग पूरा आकार ले चुका था.

जब दीदी जाने को हुई तो अचानक उनकी साड़ी सोफे में फंस जाने के कारण वो मेरी गोद में गिर गईं, जिससे मेरा खड़ा लंड उनकी गांड की दरार में फंस गया.

मैंने कहा- दीदी, आप क्या कर रही हो? मुझे हरा दो!
तो वो बोली- बस अब साड़ी निकालो!
और वो बैठ कर जोर जोर से अपनी गांड चोदने लगी.

जिससे मैं वासना के रस से सराबोर हो गया.
मैंने भी मौके का फायदा उठाते हुए उसकी कमर पकड़ ली और नीचे से एक जोरदार झटका दे दिया, जिससे मेरा लंड उसकी गांड से जा टकराया, जिससे उसका मुँह खुल गया और कराह निकल गई.

लेकिन मैंने उससे सॉरी कहा.
तो उसने कहा ‘कोई नहीं’ और एक प्यारी सी मुस्कान बिखेर कर वहां से चली गयी.

कुछ देर बाद बहन का मैसेज आया- यार टीना, मेरा छोटा भाई बहुत शरारती है. वो सिर्फ अपनी बड़ी बहन को चोदना चाहता है. यह अच्छा था कि सभी लोग घर पर थे। नहीं तो वो मुझे आज ही चोद देता.

मैं (टीना)- ठीक है, अब तुम तय करो कि तुम्हें अपने भाई के साथ सेक्स करना है या अपने जीजा का इंतज़ार करना है.

दीदी- नहीं यार, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता. आज उसका लंड मेरी गांड में घुस गया था. अगर घर पर कोई नहीं होता तो शायद मैं ख़ुशी ख़ुशी चुदवा लेती। अब तुम ही बताओ कि उससे कैसे चुदाई करवाऊँ कि उसे मुझे बताना न पड़े!

मैं (टीना)- जब घर पर कोई न हो तो कुछ ऐसा करो कि वह तुम्हें न चाहते हुए भी चोदे और तुम न चाहते हुए भी चोदो!

उसके बाद शाम को खाना खाने के बाद मैं दिन भर की सारी बातें याद करके सो गया.

सुबह जब मैं उठा तो मेरी छोटी बहन जा चुकी थी, घर पर सिर्फ मम्मी, पापा और बड़ी बहन ही थे।

उसके बाद नाश्ता करके मैं अपने दोस्तों के साथ घूमने निकल गया.
शाम को जब मैं आया तो देखा कि मम्मी-पापा कहीं जा रहे थे.

मेरे पूछने पर उसने बताया कि उसकी दादी की तबीयत खराब है इसलिए वह उनसे मिलने जा रहा है. जल्दी वापस आयेंगे।
और मुझसे कहा कि मैं अपनी बहन के साथ घर पर ही रहूं.

शाम को बहन ने खाना बनाया और हमने साथ में खाना खाया.

उसके बाद मैं टीवी देखने लगा.
तभी फेसबुक पर मैसेज आया- यार टीना, आज घर पर कोई नहीं है. मुझे कुछ बताओ ताकि हम चुदाई कर सकें!

मैं (टीना)- देखो, अगर तुम्हें चुदाई करानी है तो तुम्हें पता है कि तुम्हें क्या करना होगा. मैं तो बस यही कहूंगा कि मौका अच्छा है, इसे जाने मत दो। शुभकामनाएं!

कुछ देर बाद दीदी हॉल में आईं और वहीं बेड पर बैठ गईं और टीवी देखने लगीं.

कुछ देर बाद उसने कहा- सतीश, आज अधिक काम करने के कारण शरीर बहुत दर्द कर रहा है। क्या तुम मेरे पैर दबाओगे?

मैंने कहा- क्यों नहीं दीदी, आप पेट के बल लेट जाओ, मैं दबा दूंगा.

उसके बाद दीदी पेट के बल लेट गईं और मैं उनके पैरों को अपने हाथों से धीरे-धीरे दबाने लगा और साथ ही हल्के हाथों से सहलाने लगा, जिसके जवाब में दीदी भी मजे लेने लगीं.

कुछ देर ऐसे ही चलने के बाद दीदी बोलीं- मैंने सुना है कि मालिश करवाने से दर्द बहुत जल्दी ठीक हो जाता है. आप क्या सोचते हैं?
मैं: हाँ, मैंने भी यही बात सुनी!

दीदी- तो ऐसा करो और टेबल पर रखे तेल से मालिश कर दो!
मैं- ठीक है दीदी, अभी कर दूंगा!

इसके बाद मैंने तुरंत अपने पैरों पर तेल लगाया और हल्के हाथों से मसाज करने लगा.
दीदी : प्लीज़ घुटनों के ऊपर भी करो, बहुत दर्द हो रहा है.

उसके बाद मैंने उसके घुटनों की हल्के हाथों से मालिश करना शुरू कर दिया, जिससे मेरी बहन को बहुत मजा आ रहा था.

दीदी- अरे तेल के कारण नाइटी खराब तो नहीं हो रही?
मैं: हाँ, थोड़ा ख़राब हो रहा है!
दीदी- तो ऐसा करो और नाइटी उतार दो.
मैं: क्या हटाऊं?
दीदी- हाँ, निकाल लो ताकि मालिश ठीक से हो सके!

फिर मैंने एक ही बार में नाइटी उतार दी. अब दीदी मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में लेटी हुई थी और मैं मसाज करने लगा.
फिर दीदी बोलीं- प्लीज कमर पर भी करो!

उसके बाद हल्के हाथों से कमर की मालिश करने लगा.

दीदी- अरे मेरी पीठ और गर्दन की भी मालिश कर दो, आज पूरे शरीर में बहुत दर्द हो रहा है!
मैं- ठीक है दीदी, मैं करता हूँ!

उसके बाद मैंने अपनी पीठ और गर्दन की मालिश शुरू कर दी.
जिससे दीदी नशे की हालत में धीमी आवाज में आवाजें निकालने लगीं.

कुछ देर ऐसे ही चलने के बाद दीदी बोलीं- ब्रा का हुक भी खोल दे. इसे तेल से खराब न होने दें!
मैंने अपनी बहन की बात को नजरअंदाज कर दिया.

फिर दीदी बोलीं- सुना नहीं, ब्रा उतारो. नहीं तो तेल से ख़राब हो जायेगा!
मैं: लेकिन दीदी, इससे आप ऊपर से नंगी हो जायेंगी?
भाभी- तो क्या हुआ… यहाँ कोई देख रहा है! और फिर आप मसाज भी अच्छे से कर सकते हैं!

उसके बाद मैंने बहन की ब्रा उतार दी.
अब दीदी मेरे सामने ऊपर से पूरी नंगी और नीचे सिर्फ पैंटी पहने हुए लेटी हुई थीं.
ये देख कर मैं अपना आपा खोने लगा.

मेरा लंड पैंट फाड़ने को तैयार था जो लगातार उसकी गांड से रगड़ खा रहा था.
जिसका बहना अपनी गांड उठा उठा कर खूब मजा ले रही थी.

फिर दीदी बोलीं- मेरे लिए कुछ करोगे?
मैंने कहा- हाँ भाभी, क्या आप बता सकती हैं?

दीदी- क्या तुम मेरे नितंबों की मालिश करोगे प्लीज़?
मैं: बेवकूफों के बारे में क्या? लेकिन मैं कैसे कर सकता हूँ?

दीदी- जैसे वो अभी कर रहा है. गांड में बहुत दर्द होता है! प्लीज़ करो, अब बस यही दर्द बाकी है!
मैं- ठीक है दीदी, अभी कर दूंगा.

फिर दीदी ने अपनी पेंटी भी उतार दी और अपने पैर फैलाकर आँखें बंद करके लेट गयी.

वक्त का मिजाज देख कर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिये और नंगा होकर मसाज करने लगा.

दीदी की गोरी चूत मेरे सामने खुलकर दिख रही थी.
चूत अभी भी रस से पूरी तरह भीगी हुई थी, जो मुझे चाटने के लिए ललचा रही थी।

लेकिन मैंने खुद पर काबू रखा और गांड की मालिश जारी रखी.

अब दीदी पूरी गर्म हो गई थी, वो अपने मुँह से ‘आह आह… आउच माँ’ की आवाजें निकालने लगी।
मैंने पूछा- क्या हुआ दीदी?
तो वो बोली- कुछ नहीं, दर्द तो बहुत है ना.. तो कुछ राहत मिली है!

कुछ देर तक दीदी की गांड को ऐसे ही टटोलने के बाद मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी जिससे दीदी की आह निकल गई.
लेकिन उन्होंने कुछ नहीं कहा.

अब हम दोनों के लिए खुद पर काबू पाना मुश्किल हो गया था.
मैं अपनी उंगली को चूत के अन्दर-बाहर करने लगा जिससे दीदी आनन्द के सातवें आसमान पर सवार होने लगी।

अब मैंने अपनी दो उंगलियाँ चूत में डाल दीं और अन्दर-बाहर करने लगा।

कुछ देर बाद मैंने अपनी जीभ चूत में डाल दी जिससे दीदी कराहने लगीं और बोलीं- आउच माँ मर गई!
और अपने हाथ से पकड़ कर मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबाने लगी.

कुछ देर बाद दीदी उठी और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर चूमने लगी.
मैं भी उसके दोनों स्तनों को सहलाते हुए उसके होंठों को चूमने लगा।

10 मिनट की जोरदार चुसाई के बाद दीदी बोलीं- अब छोड़ो, मेरे होंठ दुखने लगे हैं!

फिर दीदी ने कहा- अब जैसे पीठ की मालिश की है, वैसे ही आगे की तरफ भी मालिश करो तो संतुष्टि मिलेगी!

मैंने भी कहा- भाभी, हाथ से करूं या लंड से?

दीदी- सबसे पहले तो, अब कुछ मत बोलना दीदी!
में : तो क्या बोलूं दीदी?
दीदी- जब रानी ही काम कर रही हो तो रानी कहो या डार्लिंग! लेकिन बहन, मत कहो! और जहाँ तक मसाज की बात है तो अब तुम मेरे राजा हो, तुम्हें जो करना है अपने लिंग से करो, अपने मुँह से करो, अपने हाथों से करो… बस जल्दी करो। अब और बर्दाश्त नहीं होता मेरे राजा!

फिर मैं अपनी बहन के दोनों स्तनों को बारी-बारी से चूसने और काटने लगा।
उसके स्तन एकदम लाल हो गये.

दीदी- हाय मेरे राजा, अब बजाओ मेरी चूत का बाजा!
मैं- हाँ डार्लिंग, अभी पहले मेरा लंड चूसो!

तो दीदी ने चूसने से मना कर दिया.
लेकिन जब मैंने ज्यादा जोर दिया तो उसने लंड मुँह में ले लिया.

अब मैं पूरे जोश के साथ उसके मुँह को चोदने लगा जिससे गप गप की आवाजें आने लगीं.
जब लंड उसके गले से टकराया तो उसकी सांसें रुक गईं और आंसू बहने लगे.

तो मैंने तुरंत अपना लंड बाहर निकाला और उसकी चूत को सहलाने, चाटने और काटने लगा।
जिससे उसकी आवाजें तेज़ होती जा रही थीं- अब अपना लंड चूत में डाल बहनचोद कुत्ते!
मैं- हां साली रंडी, ले अभी… देख तेरी चूत को नुकसान तो नहीं पहुंचाता!

और मैं उसकी चूत को चूसने लगा.

कुछ देर बाद मैंने लंड को सेट किया और एक जोरदार झटका मारा जिससे आधा लंड मेरी बहन की चूत में घुस गया.
जिससे दीदी चिल्ला उठीं- उई ईई… माँ आहह हह… मार डाला बहनचोद!
मैं- क्यों, पहले भी कई बार चुद चुकी हो तो चिल्ला क्यों रही हो?
दीदी: दीदी, मैं बहुत दिनों के बाद चुद रही हूँ. और तेरे जीजू का लंड तो बहुत छोटा है!

मैं- अब साली रंडी … चुत चुदाई का मजा ले, मोटा लंड!
और मैंने चूत में एक और झटका मारा जिससे पूरा लंड अन्दर घुस गया.
और वह चिल्लाने लगी.

कुछ देर तक मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा.
जब दीदी का दर्द कम हुआ तो मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उनकी चूत में अन्दर-बाहर करना शुरू किया.

कुछ देर ऐसे ही जारी रखने के बाद मैंने झटकों की स्पीड बढ़ा दी, जिससे मेरी बहन गालियाँ देते हुए और चिल्लाते हुए मजे लेने लगी.

दीदी- मादरचोद कुत्ते… और तेज़ चोद… आज अपनी बहन की चूत की प्यास बुझा दे! और तेज! अपनी बहन की चूत का भोसड़ा बना दो! ईई ईई… ह्म्म्म्म घघ… आआहह… ईईईई!
ये कहते हुए दीदी को चरमसुख मिल गया.

जिससे मेरा लंड दीदी की चूत के रस से भीग गया था.

अब दीदी थक कर बिस्तर पर लेट गईं और मुझे चूमने लगीं.

मैं बहन के मम्मों को सहलाने और चूसने लगा और उसकी चूत में उंगली भी करने लगा. बाद में चूत को मुँह से चाट कर साफ किया.

अब दीदी फिर से गर्म हो गई थी और लंड लेने के लिए तैयार थी.

मैंने कहा- मेरे लंड की रानी, अब मैं तुम्हें पंजाबी कुतिया बना कर चोदूंगा!
दीदी- जैसे चोदना है वैसे चोद… मादरचोद, अब जल्दी से अपना लंड डाल दे चूत में!

अब मैंने गीली चूत में अपना लंड डाला और पूरे जोश से चोदने लगा.
दीदी अपनी गांड उठा उठा कर चिल्लाते हुए चुदवा रही थी.

30 मिनट की जोरदार और गहन जुदाई के बाद, मैं स्खलित होने वाला था।
तो मैंने दीदी से पूछा- दीदी, आप अपने भाई के लंड का रस कहाँ लेना चाहोगी?
भाभी- लंड का रस चूत में ही डालो… और इसकी प्यास बुझा दो!

उसके बाद मैं दीदी की चूत में ही झड़ गया और निढाल होकर उनके ऊपर लेट गया.

कुछ देर बाद जब दीदी बाथरूम में गईं तो मैं भी उनके पीछे गया और उनकी गांड को पीछे से पकड़ लिया.

दीदी- अरे ये क्या कर रहे हो? अब छोड़ो…और कितना करेगा? क्या आप संतुष्ट नहीं हैं? मेरी चूत में दर्द होने लगा है!

मैं: तुम्हारे जैसा माल भी कहीं छूट जाता है क्या? अगर तुम मेरी पत्नी होती तो मैं तुम्हें दिन रात चोद कर अब तक तुम्हारी चूत का भोसड़ा बना चुका होता!
दीदी- ठीक है, अभी बनाओ! लेकिन अब रहने दो, दर्द हो रहा है. इसलिए बहुत दिनों बाद मेरी चुदाई हुई!

मैं: अप्सरा को कोई छोड़ता है क्या?
ये कहते हुए मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसे खूब चोदा.

अगले दिन मम्मी पापा के आने से पहले पापा ने बहन को दो बार और चोदा।
लेकिन शाम को माँ के आने के कारण पापा बहन की फूली हुई गांड को चोद और चूस नहीं सके.

लेकिन अगली बार जब दीदी घर आईं तो वह सपना भी सच हो गया।

अब जब भी मुझे और बहन को मौका मिलता है, हम खूब सेक्स का मजा लेते हैं.

भाई ने सगी बहन को चोदा ये कहानी जरूर पसंद आई होगी.
मुझे मैसेज करके बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds