February 29, 2024
boss ne ki taang utha ke chudai

हाय दोस्तो, मेरा नाम टीना है, और मैं आज आपको मेरी Boss Sex Story (बॉस ने की टांग उठा के चुदाई) सुनाने वाली हूं। ये कुछ ही दिन पहले की बात है। चलो फिर शुरू करते हैं कहानी।

मैं 25 की कुंवारी लड़की हूं, गरीब परिवार से संबंधित हूं। मेरे पापा मज़दूरी करते हैं, और मुझे बहुत मेहनत से पढ़ाया है। घर में छोटे भाई-बहन भी हैं। क्या कारण मेरे घर की हालत ख़राब थी। मुझसे देखा नहीं गया, और मैंने नौकरी ज्वाइन कर ली।

मैं काफ़ी हॉट और सेक्सी हूँ। आप कल्पना कीजिए कि गांव की छोरी कैसी होती है, एक-दम हरी-भरी। वैसी ही मैं गोरी-चिट्टी दूध जैसी गोरी, उभरे हुए मेरे स्तन, और बाहर निकली गांड। जो भी देख ले बच्चे से लेके बुड्ढे तक पैंट में तंबू बन जाए। मेरा फिगर 32-28-34 था.

तो अब कहानी पर चलते हैं। नौकरी में ज्वाइन हुए 1.5 साल हो गया था। ऑफिस में सब की निगाहें मुझ पर ही टिकी हुई थी। चपरासी और चौकीदार सा लेकर थकी मैनेजर सब बस मुझे पेलना चाहते थे।

मेरा मैनेजर हमेशा अपने केबिन में बुला कर मुझे गलत तरीके से टच करता था। वो मेरी रिपोर्ट में छेड़-छाड़ करके मुझे गलत साबित करके मेरे पे चांस मारने की कोशिश करता था।

हमारा ऑफिस सैटरडे हाफ डे होता था, पर मैनेजर मुझे सारा काम दे कर रोक देता था, और किसी बहाने से खुद भी रुक जाता और मुझे परेशान करता हमेशा।

ऐसे ही महीना बीत गया. पापा का काम रुक गया, और घर में पैसे की कमी आ गई। लोन वाला परशान करने लगा. ये बात मैनेजर को पता चली, और मैनेजर खुश हो गया। शनिवार का दिन था. क्या शनिवार भी मुझे ढेर सारा काम दे दिया उसने।

पर मुझे घर जल्दी जाना था किसी वजह से, तो मैं छुट्टी लेने उनके केबिन में चली गई।

मैनेजर ने छुट्टी नहीं दी, और मुझ पर चांस मारना लगा। वो मुझ पर दया करना चाहता है, कि एक लड़की इतनी मेहनत कर रही है अपने परिवार के लिए, कैसे लोन पूरा करेगी? हां सब कहते-कहते मैनेजर कभी मेरे कंधे पर हाथ रखता, कभी गांड को टच करता।

मुख्य प्रबंधक से कहने लगी: कृपया सर जाने दो। घर में कुछ काम है.

तभी मैनेजर ने कहा: देख आज अच्छा मौका है। कब तक ऐसा काम करती रहेगी? तू मुझे खुश कर दे, मैं तेरा लोन पूरा कर दूंगा।

ये कहते हुए वो मेरी गांड में हाथ फेरने लगा। मैं भी गरम होने लगी और लोन की बात सूरज का सोच में पड़ गई। मैं सोचने लगी, इसी बीच मैनेजर मेरी गांड दबाने लगा। तभी मुख्य झट सा दूर हटी और साइड में शांति से खड़ी हो गई। तभी मैनेजर नजरीक आके पूछने लगा-

मैनेजर: अच्छा नहीं लगेगा क्या? इसके पैसे मिलेंगे. तेरा लोन भर जाएगा. और क्या चाहिए तुझे. सोच अच्छे से, बार-बार मौका नहीं मिलता ऐसा।

फिर थोड़ी देर खामोशी के बाद मैंने कहा: बाद में आप पलट गए तो?

मैनेजर हां बात सुन कर हंसने लगा और बोला: बस इतनी सी बात?

ये कहते हुए जल्दी से उसने फोन निकाला, और सिर्फ अकाउंट में पैसे भेज दिए।

मैनेजर: ले, अब खुश?

ये कहता हुआ वो मेरे करीब आ गया, और हल्का-हल्का मेरे होठों के पास आने लगा। मैं पीछे जाती रही. फिर क्या था, दीवार आ गई, और मैनेजर मेरे सामने थे। और कोई विकल्प नहीं था मेरे पास।

मैनेजर ने मुझे दीवार में चिपका दिया। मेरे उभरे बड़े स्तन उसकी छाती में दब रहे थे। मैनेजर मेरी नाज़ुक सी हरी-भरी कमर पर हाथ रख कर कान में कहना लगा-

मैनेजर: आज तू मेरी हुई, और मैं आज तुझे कुतिया बनाऊंगा। क्या माल है. 1.5 साल से तड़प रहा हूं इस वक्त के लिए। आज वो पूरा होगा.

ये कहते ही वो मेरे गुलाबी होठों पर टूट पड़ा, और एक हाथ कमर पर, और एक उभरी हुई टाइट गांड पर रख लिया। वो मेरी गांड मसलने लगा, और होठों को काटने लगा। देखते ही देखते मैं भी काफी गरम हो गई, और मैं भी किस में साथ देने लगी। वो मेरे रसीले होठों को किसी नींबू के जैसा चुनने लगा। 10 मिनट तक यहीं चलता रहा.

ऑफिस में सन्नाटा छाया हुआ था. सैटरडे हाफ डे था, और बस हम दो द. फिर मैनेजर ने मुझे भगवान से उठाया, और अपनी टेबल पर बिठा दिया, और मेरी गांड पकड़ कर मुझे सामने खींचा। फिर वो मेरे स्तन पर टूट पड़ा शर्ट का ऊपर से ही।

इतने जोश में था मैनेजर कि उसने मेरी शर्ट का बटन तोड़ दिया। मैं अब बस ब्रा में थी. मैनेजर मेरे स्तनों से खेलने लगा, और पूरी बॉडी छूने लगा, और उस पर चुंबन करना लगा। धीरे-धीरे वो नीचे जाता रहा, और मेरी पैंट के बटन खोल कर फेंक दी।

अब मैं उसके सामने बस ब्रा और पैंटी में थी। मैनेजर पैंटी का अंदर हाथ डाल कर उंगली करने लगा, और मेरे होंठों को चुनने लगा। मैंने भी मैनेजर की टी-शर्ट निकाल कर फेंक दी, और मुख्य मैनेजर को देखती रह गई। मैनेजर 50 की उम्र का था, फिर भी सिक्स पैक्स वाली बॉडी थी उसकी।

क्या बॉडी मेंटेन कर रखी थी उसने। ये देखते ही मैं भी उनके ऊपर टूट पड़ी। मैं उनकी पूरी छाती को छूने लगी। फिर क्या था, मैनेजर को कुर्सी पर बिठाया, और उनकी पैंट और अंडरवियर को साथ में उतार कर फेंक दिया। उनका लंड देख कर तो कोई भी लड़की पागल हो जाये ऐसा था। 8 इंच का मोटा लंड था, जो देख कर मैं हेयरन रह गयी।

मैनेजर कहने लगा: देख कर डर गई क्या?

फिर मेरा हाथ पकड़ कर अपनी और खींच लिया, और किस करने लगा। मैं घुटनो पे गयी, और मोटे लंड को मुँह में लेने लगी। पर इतना मोटा लंड पूरा जा नहीं पा रहा था। फिर क्या था, मैनेजर ने मेरे बाल पकड़े, और ज़ोर-ज़ोर से धक्का देने लगा। वो मेरा मुँह चोदने लगा.

5 मिनट बाद मैनेजर झड़ गया, और पूरा माल मेरे मुँह में भर दिया। मेरा पूरा फेस कम से भर गया। इतना गाढ़ा और स्वादिष्ट कम मैं सारा पी गई।

फिर क्या था, मैनेजर ने मुझे उठाया, और अपनी टेबल पर वापस पटक दिया। फिर मेरी ब्रा खोल कर मेरे फुटबॉल को आज़ाद कर दिया। मेरे गोल स्तन देख कर मैनेजर हमारे बराबर टूट गया।

मैनेजर: ये इतना राउंड आम मुझे बहुत पसंद है।

ये कहता हुआ चुनने और काटने लगा। वो हल्का-हल्का पैंटी नीचे करके मेरी गुलाबी और रसीली चूत को देख कर तो पागल ही हो गया।

फ़िर वो कहना लगा: तू अभी तक वर्जिन है?

फिर क्या था, मैनेजर की तो ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा वर्जिन चूत देख कर।

आप सभी को ये बॉस ने की टांग उठा के चुदाई पार्ट-1 अच्छी लगी तो इसके दूसरे पार्ट (बॉस ने की टांग उठा के चुदाई पार्ट-2) और सस्पेंस का इंतजार करें। उसमे बताउंगी कि मैनेजर ने कैसे मेरी ली।

Read More: Best Boss Sex Story

पढ़ने के लिए आपका शुक्रिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds