February 23, 2024
दोस्त की गर्लफ्रेंड को चोदा

हेलो दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने अपने "दोस्त की गर्लफ्रेंड को चोदा और उसे चुदाई का असली सुख दिया"

हेलो दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने अपने “दोस्त की गर्लफ्रेंड को चोदा और उसे चुदाई का असली सुख दिया”

मेरी उम्र 32 साल है. मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. ये सेक्स कहानी 10 साल पहले की है. मेरा दोस्त रोहन एक कॉल सेंटर में काम करता था

वहाँ उसकी दोस्ती एक लड़की से कॉल पर हुई, जिसका नाम आशिका था। वह लड़की पहले से ही रोहन से फोन पर बात कर रही थी.

न तो रोहन ने उसे देखा था और न ही आशिका ने रोहन को देखा था। फोन पर दोनों की दोस्ती इतनी आगे बढ़ गई कि आशिका रोहन से मिलने के लिए कहने लगी।

लेकिन उनके बीच कोई समय और स्थान निर्धारित नहीं किया जा सका. मेरे रोहन भाई भी कुछ शरारती थे।

फिर एक दिन रोहन का फोन आया कि आशिका ने जिद करके मुझे मिलने बुलाया है, लेकिन मुझे डर लग रहा है इसलिए प्लीज मेरे साथ चलो.

मैंने हाँ कहा क्योंकि मैं उस समय फ्री था। मेरा दोस्त रोहन 28 साल का जवान आदमी था लेकिन वो अंकल टाइप का लगता था। यह पहली बार था कि वह किसी लड़की से मिलने जा रहा था।

इस कारण वह बहुत डरा हुआ था। हालाँकि मैंने आज तक कभी सेक्स नहीं किया था, लेकिन लड़कियों से बात करने में मैं काफ़ी आगे था। मेरी कई लड़कियों से दोस्ती थी.

ये अलग बात थी कि मेरी किसी लड़की से बात कभी आगे नहीं बढ़ी थी. खैर हम दोनों अच्छी तरह से तैयार होकर वहां पहुंच गये. उस लड़की से मुलाकात एक मॉल में होनी थी.

हम दोनों साथ गए और मॉल में एक जगह खड़े होकर आशिका का इंतज़ार करने लगे। आशिका ने रोहन को बताया था कि वह एक दोस्त के साथ आ रही है।

जैसा कि मैंने बताया, न तो रोहन उसे जानता था और न ही वह रोहन को जानती थी। उनके बीच तय हुआ कि वे फोन पर बात करके एक-दूसरे को जानेंगे।

कुछ देर बाद हमने देखा कि दो 18-19 साल की लड़कियाँ वहाँ आईं और इधर-उधर देखने लगीं। रोहन ने फोन किया तो उन्हीं लोगों ने उठाया।

रोहन उन्हें देखकर बहुत घबरा गया क्योंकि ये लड़कियाँ बहुत छोटी थीं। वो उनके सामने शर्म महसूस करने लगा, लेकिन मैंने जबरदस्ती उसे उन लड़कियों के सामने खींच लिया.

मैंने उससे कहा- ये रोहन है, तुम दोनों में से आशिका कौन है? आशिका एक पतली साँवले रंग की लड़की थी। उसे रोहन बहुत बड़ा और अंकल टाइप का लगा.

वो मुझसे कहने लगी- नहीं, ये सच नहीं है, तुम सबसे अच्छे हो. मैंने उसे अपना आईडी कार्ड दिखाया और अपना नाम बताया.

यहीं से कहानी बदल गई. रोहन को लगा कि यह उसका अपमान है और वह वहां से चला गया। मैंने आशिका से उसका नंबर लिया और उससे कुछ देर बात की और उससे विदा ले ली.

इसके बाद मैंने रोहन की तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला।’ मैंने फोन किया तो पता चला कि उसका मूड खराब था इसलिए वो अपने घर चला गया है.

इसके बाद मैं वहां रहकर क्या कर सकता था इसलिए मैं भी अपने घर आ गया. मुझे पता चल गया कि आशिका को मुझसे प्यार हो गया है. मैंने उसे बुलाया और ऐसे ही बातें करने लगा.

वह बात करने में बहुत प्यारी थी. एक हफ्ते तक आशिका से फोन पर बात करने के बाद वो मेरी गर्लफ्रेंड बन गई और हमारे बीच की बातचीत सेक्स तक पहुंच गई.

एक शाम उसने मुझे अपने घर बुलाया. वह बहुत बड़े बंगले में रहती थी. बाद में मुझे पता चला कि वह बंगला एक बूढ़ी औरत का था, जो बिस्तर पर लेटी हुई अपनी मौत का इंतजार कर रही थी.

आशिका का परिवार उसकी देखभाल के लिए उसी बंगले के पिछले कमरे में रहता है। उस बुढ़िया की देखभाल के लिए उस बंगले में एक नर्स भी रहती थी और आशिका भी रात को बंगले में सोती थी।

खैर.. जब मैं वहां पहुंचा तो आशिका ने गेट खोला और मुझे अन्दर ले लिया। वह मुझे एक कमरे में ले गयी. वहाँ वह मुझे अपनी बनाई हुई पेंटिंग दिखाने लगी।

हालाँकि, मुझे उसमें दिलचस्पी थी, इसलिए मैंने उसे अपनी गोद में बैठा लिया और उसे चूमना शुरू कर दिया।

आरजू बहुत अच्छी लड़की थी. वह 19 साल की कड़क लड़की थी. कुछ ही देर में वो गर्म हो गयी. मैंने उसे लिटाया और उसकी चूत देखने को कहा तो उसने अपनी योनि खोल दी।

उसकी महीन रेशमी बालों वाली चूत देखकर मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी।

मैं आरजू की चूत चाट ही रहा था कि अचानक आवाज आई। कोई उसे बुला रहा था. उसने मुझे बाथरूम में छुपा दिया और देखने चली गयी. वहां उसकी मां आई हुई थी.

वह कुछ देर के लिए अपनी मां के साथ चली गईं. मैं इस सब से बहुत डर गया था. मैंने सोचा कि अब हमें यहां से निकल जाना चाहिए, नहीं तो पकड़े जाएंगे तो बहुत मार पड़ेगी.

कुछ देर बाद आशिका मेरे पास आई, मैंने कहा- अब यहाँ ख़तरा है और 8 भी बज गए हैं। अब मैं जा रहा हूं. लेकिन आशिका को पहले से ही सेक्स करने का मन हो गया था। उन्होंने कहा कि आज यहीं रुकें.

मैंने कहा- अगर कहीं कोई गड़बड़ हो गई तो? उसने मुझसे कहा कि मैं तुम्हें स्टोर रूम में छिपा दूंगी और रात को तुम्हारे पास आऊंगी.

मैं भी एक जवान लड़का था और मेरा भी सेक्स का मूड था तो मैंने हामी भर दी. मैंने अपने घर फोन करके कहा कि आज रात मुझे ऑफिस में ही रुकना होगा.

इसके बाद मैं स्टोर रूम में छुप गया. स्टोर रूम में समय गुजारना बहुत मुश्किल था. वो मुझसे मैसेज के जरिये बात कर रही थी.

लेकिन 8 से 12 बजे के बीच का समय काटना बहुत मुश्किल हो रहा था। फरवरी का महीना था इसलिए ठंड भी महसूस होने लगी थी।

रात को बारह बजे वो मेरे पास आयी. उसके आते ही मैंने उसे गले लगा लिया. उसके बदन की गर्मी मुझे बहुत गर्मी दे रही थी. हम दोनों ने अपने कपड़े उतार दिये.

मैं उसे चूम रहा था और उसके कच्चे स्तन दबा रहा था। कुछ देर बाद मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया. वो मेरे लंड को सहलाने लगी. उसको मेरा लंड बहुत पसंद आया.

काफी देर तक चूमा चाटी के बाद अब बारी थी लंड डालने की, जिससे वो घबरा रही थी और चाह कर भी मना कर रही थी. मैंने उसे मना लिया- अगर दर्द होगा तो मैं रुक जाऊंगा.

मेरा लिंग सख्त हो गया था. किसी भी चूत को फाड़ देने को मचल रहा था. मैंने पहला शॉट मारा तो लंड फिसल गया. मैंने फिर से अपना लंड चूत की दरार में सेट किया और शॉट मारा.

लंड फिर से फिसल गया। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि गलती कहां हो रही है. दरअसल, आशिका लंड लेते समय अपनी कमर हिलाती थी और हर बार मेरे लंड का निशाना चूक जाता था.

आख़िरकार मैंने आशिका की एक टांग अपने कंधे पर रख ली और मैंने जो भी निशाना साधा, वह बच नहीं सकी। लिंग योनि को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया।

चूत की सील टूट गयी थी. इस समय उसका छटपटाना मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कोई ताजा मुर्गे का वध किया जा रहा हो। मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में भर लिया तो वो बस कराहती रह गई.

मैं उसे चीखने नहीं दे सकता था… नहीं तो मैं मारा जाता। पूरा लिंग घुसाने के बाद मैं कुछ देर रुका और उसके स्तनों को दबाता और मसलता रहा।

जब वह थोड़ी सामान्य हुई तो मैंने अपना मुँह उसके मुँह से हटाया और उसके स्तनों को चूसने लगा। वह धीरे-धीरे रो रही थी. मैंने उसकी कराहों से ध्यान हटा लिया था.

मुझे पता था कि जब पहली बार नथ उतरती है तो चूत में दर्द होता है. मैं उसे हल्के-हल्के चोदने लगा और उसे शांत करने लगा। मुझे अपना लंड डालने में बहुत मजा आ रहा था.

कुछ देर बाद उसे भी मजा आने लगा और वो गांड हिलाते हुए इशारे करने लगी. अब मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा.

मेरे लंड के नीचे आरजू की चूत की अच्छे से चुदाई हो रही थी. चूत चोदने से फच फच की आवाज आ रही थी. अब आशिका भी अपनी गांड हिलाते हुए कमर उठा रही थी.

दस मिनट बाद मैं झड़ने वाला था. जब मैं स्खलित हुआ तो आशिका ने अपनी टाँगें मेरे चारों ओर लपेट लीं और मुझे कस कर पकड़ लिया। हम दोनों को चुत चुदाई में बहुत मजा आया.

हम दोनों इस गुलाबी सर्दी में पसीने से लथपथ थे. उसकी चूत से खून बह रहा था. चुदाई के बाद जब वो उठी तो लंगड़ा कर चल रही थी. किसी तरह वह बाथरूम में गया और खुद को साफ किया। मैं वहीं पड़ा रहा.

कुछ देर बाद वो मेरे पास आकर लेट गयी. उसके बाद मैं बाथरूम में गया और अपना लंड धोया. मेरे लंड पर उसकी चूत का खून लगा हुआ था. मैंने उसे अपने साथ लाई हुई एक गोली खिला दी और उसके साथ मजा करने लगा.

कुछ ही देर में वो फिर से गर्म हो गयी. इस बार मैंने उससे अपना लिंग चूसने को कहा, तो थोड़ी आनाकानी के बाद वह मेरा लिंग चूसने को तैयार हो गयी.

दरअसल, उसका मन तो लंड चूसने का था, लेकिन वो शर्मा रही थी कि कहीं मैं उसे लंड चूसने वाली रंडी न समझ लूं.

जहाँ तक यह जा सकता था मैंने इसे उसके गले में धकेल दिया और उससे इसे चूसने को कहा। फिर उसे 69 में ले लिया और उसकी चूत का मजा लिया.

अब वो फिर से लंड लेने के लिए तैयार थी. इस बार मैंने उसे अपने लंड पर बिठाया और धीरे-धीरे पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया. वह दर्द से कराह रही थी.

कुछ पल बाद उसकी चूत ने गीला रस छोड़ दिया और लंड से खेलने लगी. इस बार मैं उसके स्तनों को अपने मुँह में दबा रहा था और अपने लंड को उसकी चूत में दबा रहा था।

वो जोश में थी और अपनी गांड उठा कर मेरे लंड पर उछल रही थी. कुछ देर बाद वह स्खलित हो गई और मेरी छाती पर लेट गई और हांफने लगी।

मैंने उसे अपने लिंग के साथ ही अपनी गोद में ले लिया और धीरे से उसे अपने नीचे ले लिया। अब लंड खड़ा था और चूत चोदने के लिए खुली थी.

इस बार मैंने मजे से उसकी चूत मारी और बीस मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपना रस उसकी चूत में ही छोड़ दिया. इस तरह मैंने उस रात उसे दो बार चोदा. सुबह 4 बजे वहां से निकले.

एक बार जब चूत को लंड की लत लग जाती है तो फिर बार-बार लंड में खुजली होती है. यही हुआ… आशिका बार-बार मुझसे मिलने लगी। अब मैं उसे दिन में भी चोदने लगा. मैंने आशिका के साथ कई बार सेक्स किया, जिसमें हर बार कुछ नया हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds