February 25, 2024
पड़ोसन भाभी को चोदकर प्रेग्नेंट किया

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने "पड़ोसन भाभी को चोदकर प्रेग्नेंट किया और उसे बच्चे की ख़ुशी दी"

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पड़ोसन भाभी को चोदकर प्रेग्नेंट किया और उसे बच्चे की ख़ुशी दी”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी लम्बाई 6 फीट है और लिंग का आकार लगभग 7 इंच है। भगवान की दया से मैंने लगभग हर लड़की को संतुष्ट किया है।

यह घटना तब की है जब मेरी कंपनी ने मुझे मुंबई पोस्ट किया था। कंपनी ने मुझे वहां एक फ्लैट अलॉट कर दिया और किस्मत से मेरे फ्लैट के पड़ोस में एक खूबसूरत जवान भाभी अपने पति के साथ रहती थी।

उनकी शादी को 4 साल हो गए थे लेकिन उनकी कोई संतान नहीं थी। कुछ दिनों के बाद मेरी जान-पहचान भाभी के पति रोहन से हो गयी और एक दिन उन्होंने मुझे अपने घर चाय पर बुलाया.

जब उसकी पत्नी आशिका चाय लेकर आई तो मैं एक पल के लिए उसे देखता ही रह गया. 36-26-38 का मस्त फिगर था. उसका फिगर देखते ही मेरा लंड उसकी खूबसूरती को सलामी देने लगा.

मुझे जल्दी से अपनी चाय खत्म करनी थी और घर आकर हस्तमैथुन करना था। उसका नशीला बदन देख कर मैं बड़ी मुश्किल से गेट बंद कर पाया और अपनी जींस घुटनों तक पहनते हुए ढेर सारा थूक लगा कर हस्तमैथुन करने लगा.

मैं हाथ में ट्रे लिए खड़ी उसकी तस्वीर से अपनी नज़रें नहीं हटा पा रहा था। मैंने अपना लिंग वहीं फर्श पर 3-4 जोरदार पिचकारियों के साथ खाली कर दिया।

कुछ दिनों बाद उनके घर से लड़ाई-झगड़े और रोने-चिल्लाने की आवाजें आने लगीं। मैं दरवाजे के पास गया तो मैंने सुना कि आशिका भाभी अपने पति को डांट रही थीं- न तो तुम मुझे बच्चा दे पा रहे हो और न ही मुझे तलाक दे रहे हो.

अगर ताकत नहीं थी तो मुझसे शादी क्यों की? उसका पति रोहन कह रहा था- तुम किसी से भी बच्चा पैदा कर सकती हो लेकिन प्लीज मुझे तलाक मत देना।

इतना कह कर रोहन दरवाजे की तरफ बढ़ा और मैं तेजी से अपने गेट में घुस गयी. जैसे ही वो बाहर गया, मैं भाभी के पास गया और उन्हें चुप कराया.

वह मुझे अपना दोस्त मानती थी, इसलिए उसी हैसियत से उसने अपनी बाहें मेरे गले में डाल दीं और रोने लगी। जैसे ही उसने मुझे छुआ, मुझे करंट सा लगा और मेरा लंड खड़ा होकर सलामी देने लगा.

भाभी शांत हुईं और मेरे लिए चाय लेकर आईं. चूँकि मैंने आज लोअर पहना हुआ था तो भाभी जी समझ गईं कि लौड़ा उन्हें ही सलामी दे रहा है।

चाय एक तरफ रखते हुए वो मेरे पैरों पर गिर पड़ी और आंखों में आंसू भर कर बोली- अमन, प्लीज मुझे मां बना दो. मैं जीवन भर आपका ऋणी रहूंगी.

मैंने उसे उठाया और गले से लगा लिया, अब मेरा लंड उसकी नाभि से टकरा रहा था। मैंने उससे पूछा कि अगर उसके पति को पता चल गया तो क्या होगा? फिर उन्होंने कहा- उन्होंने खुद सहमति दी है.

मैंने उससे कहा कि मैं उसे पहली नजर से ही चोदना चाहता था और उसकी याद में जबरदस्त हस्तमैथुन भी किया था. मैंने यह भी शर्त रखी कि जब तक मैं मुंबई में रहूँगा तब तक वह मेरी पत्नी बनी रहेगी।

मैंने उसे कुछ दिनों तक गर्भावस्था के दौरान सेक्स करने के लिए भी मना लिया। तय हुआ कि अगले एक साल तक रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक वह मेरी पत्नी रहेगी.

एक साल के बाद हम जानबूझ कर कोई रिश्ता नहीं रखेंगे. ये बातें करते-करते रात हो गई और मैंने उसे चूमा और सुहागरात के लिए तैयार होने को कहा और बाज़ार चला गया।

उन्हें हनीमून जैसा अहसास देने के लिए मैं बाज़ार से गुलाब और दिल के आकार के गुब्बारे लाया और बिस्तर तैयार किया। तैयार होते-होते पता ही नहीं चला कि 10 बज गये.

दरवाजे की घंटी बजने पर गेट खुला तो आशिका खाना लेकर खड़ी थी. हमने खाना ख़त्म किया और मैं उसे आँखें बंद करके बेडरूम में ले गया।

बिस्तर सजा हुआ देख कर उसकी आँखों में आँसू भर आये और उसने मुझे गले लगा लिया। मैं अपने घुटनों पर बैठ गया और उसे गुलाब दिया और हम एक-दूसरे को चूमने लगे।

मैं कई जन्मों के प्यासे इंसान की तरह उसका रस पीता रहा और वो मुझे पिलाती रही. उसके बाद मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया और हमने एक-दूसरे के कपड़े उतार दिए।

उसके गोल गोल गोरे स्तनों को पागलों की तरह चूसता रहा। मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरे होंठ उसकी नाभि से लेकर उसकी जाँघों तक पहुँच गये।

मैंने उससे कहा- अब तो चूत के दर्शन करा दो. फिर उसने शरमा कर अपने पैर फैला दिये. क्या नज़ारा था… एकदम गोरी चूत… और चूत की दोनों हल्की काली फांकें बाहर की ओर फैलकर ऐसी खुशबू छोड़ रही थीं कि मेरे होश उड़ रहे थे।

मैंने धीरे से दोनों फांकों पर अपनी जीभ फिराई. इसके बाद उसकी दोनों फांकों के बीच से गुजारते हुए जीभ अंदर डाल दि. आशिका बहुत जोर से कराह उठी और मैं और भी उत्तेजित हो गया.

फिर मैंने दोनों फांकों को एक एक करके चूसा. मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं सुबह 5 बजे तक ऐसा कर सकता हूं। लेकिन मेरे लंड का बुरा हाल था. आशिका अकड़ गयी और झड़ गयी.

जैसे ही मैंने अपना मुँह चूत से हटाया, आशिका बोली- मुझे लंड दिखाओ राजा. वह अपने घुटनों पर बैठ गई और मैं खड़ा हो गया।

उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और बोली- आज मुझे और मेरी चूत को अच्छा लग रहा है. फिर उसने मेरे लिंग को सूँघा, लिंग के टोपे पर अपनी जीभ फिराई और नितम्बों को चाटा।

और फिर उसने लंड को मुँह में डाल लिया और चूसने लगी. कुछ देर बाद जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड उसके मुँह से बाहर निकाला और 3-4 वीर्य की पिचकारियाँ उसके मुँह पर दे दीं और वो आँखें बंद करके चुपचाप लेटी रही।

उसके बाद हमने एक दूसरे की चूत और लंड को साफ किया और वो मेरे ऊपर मेरी टांगों की तरफ मुंह करके लेट गयी और अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी और लंड को मुँह में ले लिया.

कुछ देर बाद मैंने उसे लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ा. वो जोर जोर से कराहने लगी. मैंने झटके से सुपारा चूत में घुसा दिया. उसकी आंखों में आंसू आ गये.

मैंने बिना लिंग निकाले उसके स्तनों को चूसा और उसके होंठों का रस चूस लिया. वह सामान्य हो गई। फिर मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

उसने मुझे दर्द से काटा. लेकिन मैं बिना रुके उसके स्तनों और होंठों का आनंद लेता रहा. वह फिर सामान्य हो गयी. अब मैंने चोदना शुरू कर दिया.

5 मिनट के बाद लौड़े राजा ने आशिका की चूत में पिचकारी छोड़ दी और झट से आशिका को बैठा दिया ताकि मेरा वीर्य उसकी चूत से बाहर निकल जाये और वो आज ही गर्भवती न हो जाये.

सुबह के करीब 5 बजे थे. आशिका ने मुझे धन्यवाद दिया और बताया कि उसके होंठों का इतना स्वादिष्ट स्वाद, चूत की चटाई का ऐसा अहसास और इतने मोटे लंड से चुदाई का अनुभव उसे पहले कभी नहीं हुआ था.

उसने बताया कि उसे मेरे साथ सेक्स करने में बहुत मजा आया. आशिका बहुत खुश थी कि अब उसे सेक्स का सही मतलब समझ आया है.

अब से पहले उसने कभी भी अपने पति के साथ सेक्स का पूरा आनंद नहीं लिया था. उसने मुझे बताया कि शादी के समय उसका खतना नहीं हुआ था।

शादी से पहले उसने किसी के साथ यौन संबंध नहीं बनाए थे. उसने अपनी वर्जिनिटी अपने होने वाले पति के लिए बचाकर रखी थी. उन्होंने अपना पहला सेक्स अपनी शादी की रात ही किया था.

लेकिन ये उसकी बदकिस्मती थी कि उसका पति सेक्स के मामले में फिसड्डी निकला और वो इतनी खूबसूरत लड़की को ठीक से चोद भी नहीं पाया.

इसके बाद हमने पूरे साल पूरी रात अलग-अलग पोजीशन में सेक्स का मजा लिया और आज आशिका मरे जुड़वां बच्चों की मां हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds