February 22, 2024
Train Me behan ki Chudai

Train Me behan ki Chudai की कहानी में पढ़ें कि मेरी बड़ी बहन बिल्कुल हीरोइन जैसी दिखती है. एक बार जब हम ट्रेन के एसी फर्स्ट कूपे में थे तो हम बहक गए और Real Sex का आनंद लिया।

मेरा नाम माहुल है, मैं दिल्ली में रहता हूँ।
मेरे परिवार में 4 लोग हैं। मैं, मेरे माता-पिता और मेरी बहन रेनू।

यह ट्रेन मी बहन की चुदाई मेरी बहन की है.

रेनू दी मुझसे 5 साल बड़ी हैं. वह बिल्कुल हीरोइन की तरह दिखती हैं.
उसका फिगर साइज़ 32-28-34 उसे बहुत हॉट आइटम बनाता है।

रेनू दीदी अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी के लिए प्रयास कर रही थी।
तभी पुणे की एक कंपनी से उनके इंटरव्यू के लिए कॉल आया।
हमारे पास पुणे में पहले से ही एक फ्लैट है जो खाली रहता है।

रेनू दी ने मुझे साथ चलने को कहा.
पापा ने हमारे टिकट करंट में एसी फर्स्ट की दो बर्थ बुक करवा दी और हम शाम को ट्रेन में चढ़ गये।

हम दोनों स्टेशन पर अपने एसी फर्स्ट कूपे में चले गये.
यह दो बर्थ वाला कूप था।

टीटीई से टिकट चेक करवाने के बाद हम दोनों अंदर आ गए और कूपे को अंदर से बंद कर लिया।

अब हम दोनों बातें करने लगे.

बातों-बातों में दीदी ने पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?
मुझे नहीं।

दीदी- झूठ मत बोलो, इतना हैंडसम होने के बाद भी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.. क्यों?
मैं: मैं आप जैसा कभी किसी से नहीं मिला.

दीदी मुस्कुराते हुए बोलीं- अच्छा बेटा, मेरे जैसा बनने का क्या मतलब?
मैंने कहा- दीदी, मुझे आप जैसी खूबसूरत लड़की नहीं मिली.

दीदी ने सेक्सी स्माइल दी और हम खुल कर बातें करने लगे.

मैंने कहा- शायद ऊपर वाला हमें कोई संकेत दे रहा है.
दीदी बोलीं- कैसा इशारा?
तभी मैंने दीदी का चेहरा अपने दोनों हाथों में पकड़ लिया और बोला- दीदी मैं तुमसे प्यार करता हूँ.
दीदी ने भी कहा ‘मैं भी तुमसे प्यार करती हूं.’

मैं: दीदी, मैं आपसे उसी के लिए प्यार करता हूँ।
भाभी- कौन सा!

‘दीदी, मैं आपके साथ सेक्स करना चाहता हूं।’
दीदी बोलीं- पागल हो गया है क्या … मैं तेरी बड़ी बहन हूं.

मैंने कहा- तो क्या हुआ दीदी, बताओ न. दीदी, क्या तुम्हें सेक्स करने का मन नहीं है?
वो बोली- करता तो है लेकिन तुम तो मेरे भाई हो. मैं यह तुम्हारे साथ नहीं कर सकता.

मैंने कहा- दीदी, अगर आप कहीं बाहर जाकर ऐसा करोगी तो बदनामी होगी और कोई ब्लैकमेल भी कर सकता है. आप इसे घर पर कर सकते हैं!
दीदी चुप हो गयी.

मैं दीदी के पास जाकर बैठ गया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.
अब दीदी भी मेरा साथ देने लगीं.

मेरा हाथ उसके चूचों पर घूम रहा था.
दीदी ने टॉप और जीन्स पहन रखी थी.

मैंने दीदी के टॉप में हाथ डाल दिया और उनके एक दूध को दबाने लगा.
उसने नशीली आंखों से देखते हुए कहा- क्या तुम कपड़ों के ऊपर से भी मजा लेना चाहते हो?

मैंने दीदी का टॉप उतार दिया.
अब दीदी मेरे सामने ब्रा और जीन्स में थी.

शायद पहली बार किसी और ने उसके साथ ऐसा किया था.
उसका बदन मखमल की तरह चमक रहा था.

मैं उसके होंठों को चूस रहा था और ब्रा के ऊपर से ही मम्मों को दबा रहा था.

कभी-कभी दीदी आहें भरने लगती थी तो मैं उत्तेजित हो जाता था.
अब मैंने अपनी टी-शर्ट और पैंट भी उतार दी. मैं नेकर में ही था.

दीदी का हाथ मेरी नेकर के ऊपर से मेरे लंड पर था.
मैंने दीदी की पैंट उतार दी. दीदी मेरे सामने ब्रा और पैंटी में थीं.

मैं बता नहीं सकता कि मेरी बहन किस फोर्कफुल की तलाश में थी।
मैं उसका बदन देख कर पागल हो रहा था.

फिर दीदी खड़ी हुईं और उन्होंने मेरी नेकर उतार दी.
मेरा लंड फनफना कर बाहर आ गया.

‘माहुल तेरा लंड बहुत बड़ा है.’
वो घुटनों के बल बैठ गयी और मेरा लंड मुँह में लेने लगी.

मैं सातवें आसमान पर था. मत पूछो कितना मजा आया.

एक कामुक बहन अपने भाई का लंड चूस रही थी.
मैं मादक आवाज में बोल रहा था- आह दीदी, तुम कितना अच्छा चूसती हो … तुम मस्त हो मेरी बहना … आह आह आह चूसो मेरा लंड … आह मजा आ गया.

कुछ मिनट तक दीदी ने मेरा लंड चूसा.
उसके बाद मैंने अपनी बहन को उठाया और गले से लगा लिया.

मैंने अपना हाथ पीछे ले जाकर अपनी बहन की ब्रा का हुक खोल दिया.
मैंने अपनी बहन की चुचियों को आज़ाद किया और छोटे बच्चे की तरह उन्हें पीने लगा.

मैं दीदी के मम्मों को चूस रहा था. दीदी के मुँह से आह हाँ… उह्ह्ह ह्म्म्म आह आह की आवाज निकल रही थी.
वो बोले जा रही थी- आह चूसो मेरे साले भाई आह … पी जाओ इनका सारा रस.

अब मैंने बहन को बर्थ पर लिटाया और उसकी पैंटी भी उतार दी.
हम दोनों भाई-बहन पूरे नंगे थे और ट्रेन भी अपनी पूरी रफ़्तार से चल रही थी.

दीदी कह रही थी- आह माहुल अब नहीं रहा जा रहा है … प्लीज़ मुझे चोदो … अपना लंड मेरी चूत में डाल दो.
मैंने भी देर करना उचित नहीं समझा. मैं लंड को दीदी के मुँह के सामने लाया और बोला- लंड को गीला कर दो दीदी.

दीदी ने तुरंत मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर गीला कर दिया.
मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और एक जोरदार झटका मारा.

मेरा टोपा उनकी चुत में चला गया और दीदी बुरी तरह चिल्ला उठीं- आआह … आह्ह बाहर निकालो इसे … मेरी फट गई.

वह लगभग रोने लगी और ऊपर-ऊपर कसम खाने लगी।
लेकिन मेरी पकड़ बहुत मजबूत थी इसलिए मैं उससे हिल भी नहीं सका.

‘मुझे छोड़ दो प्लीज़… मैं मर जाऊँगी, निकालो इसे… मुझे मत चोदो।’ बहन की आंखों से आंसू आ रहे थे.
मैं उसी पोजीशन में रुका रहा, उसके होंठ चूसता रहा और उसके मम्मे दबाता रहा।
इससे दीदी का दर्द थोड़ा कम हो गया.

मैंने दूसरा झटका मारा.
इससे पूरा लंड दीदी की चूत को चीरता हुआ चला गया.

दीदी बेहोश हो गयी.

मैंने दीदी की चूत से लंड निकाले बिना ही पास में रखी पानी की बोतल से पानी उनके चेहरे पर डाल दिया.
तभी दीदी को होश आ गया और वो रोने लगीं.

मैं उसके मम्मों को हल्के-हल्के दबा भी रहा था।

जब दर्द कम हुआ तो मैं अपने लंड को आगे-पीछे करने लगा.
अब रेनू दीदी को भी अपनी Pussy Licking में मजा आ रहा था.

वो भी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी और कहने लगी- आह मेरे राजा चोद अपनी बहन को… फाड़ दे मेरी चूत आह हां आआह मेरे बहन के लौड़े भाई… और तेज और तेज डाल मादरचोद अन्दर… फाड़ दे भोसड़ी के… आह आज मैं तेरी नहीं हूं. साली… मैं तेरी रखैल हूँ, पूरा अन्दर डाल दे… गाभिन कर दे मुझे… चोद चोद कर दे माँ दे साले… आज से मैं तेरी रंडी हूँ… मार मेरी चूत आह्ह मेरे राजा और तेजी से पेल… कितना मजा आ रहा है भाई का लंड लेने में

मैं भी जोश में आ रहा था और जोर जोर से पेल रहा था- हां साली कुतिया, आज से तू मेरी रांड है… तेरी चूत और गांड दोनों फाड़ दूंगा, बहन की रांड रांड… अब तक कहां थी साली… आआह उहह मेरी. प्यार।

रेनू दीदी दो बार झड़ चुकी थीं.
मेरा भी होने वाला था.

‘मेरा रस निकलने वाला है, मेरी जान मुझे कहाँ ले जायेगी?’
रेनू दीदी बोलीं- आज मेरी चूत को अपने माल से भर दो।

यह सुनकर मैं बहुत परेशान हो गया और कुछ झटकों के बाद बेहोश होकर अपनी बहन की मां के ऊपर गिर गया.
 ट्रैन मे Bur ki Chudai के बाद हम दोनों कब सो गए, हमें पता ही नहीं चला.

फिर सुबह 5 बजे मेरी आँख खुली. मैंने देखा कि दीदी अभी भी सो रही थी.

मैंने नेट पर देखा तो हम पुणे पहुँचने वाले थे।

मैंने अपनी बहन को उठाया.
जब वह उठी तो उससे चला भी नहीं जा रहा था.
उसने अपनी ब्रा, पैंटी टॉप और जींस पहनी थी।

मैं उसे सहारा देकर वॉशरूम में ले गया और उसे साफ किया.

सुबह हो गई थी। हमारा स्टेशन भी आ गया था.

फिर हम दोनों नीचे उतरे और टैक्सी लेकर अपने फ्लैट की ओर चल दिए.

मैंने अपनी बहन को फ्लैट की लिफ्ट तक सहारा दिया.

फ्लैट में घुसते ही मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया.

मैंने पीछे से बहन के मम्मे पकड़ लिये.
‘कम से कम माहौल तो ठीक रहने दो।’

मैंने अपनी बहन से कहा- दीदी, प्लीज अपना टॉप उतारो.

दीदी मना करने लगीं और जाकर सोफे पर बैठ गईं.

मैंने अपनी बहन से पूछा- दीदी, तुम्हें Bur Chudai में मजा आया?

ये कह कर मैंने अपनी बहन के मम्मों को चूम लिया.
दीदी बोलीं- बहुत मजा आया. काश मैं हमेशा तुम्हारा लंड लेकर घूमती रहूँ. तुम्हारा लंड हमेशा मेरी चूत में पड़ा रहे.

‘तो देर किस बात की, खोलो अपनी चूत… मैं पेलूँगा तुम्हें!
‘अभी नहीं, पहले मुझे फ्रेश होने दो… फिर कहीं बाहर चलेंगे। रात को मजा आएगा.

‘चलो आज साथ में नहाते हैं।’ मैंने कहा।
दीदी बोलीं- ठीक है, लेकिन पहले वादा करो कि तुम मुझे वॉशरूम में नहीं चोदोगे.

मैंने कहा- ठीक है वादा करो.
फिर मैंने बहन का टॉप उतार दिया, पैंट उतार दी.. उसकी ब्रा और पैंटी भी उतार दी।

दीदी ने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिये.
मैंने दीदी को गोद में उठाया और वॉशरूम में ले गया.

मैंने अपनी सगी बहन के स्तनों और चूत पर साबुन लगाया और उसे अच्छे से नहलाया और उसने मेरे लंड पर साबुन लगाया और मुझे नहलाया।

फिर हम नहा कर बाहर आये.
मैंने दीदी से कपड़े पहनने से मना कर दिया और हम दोनों एक दूसरे का बदन पोंछ कर बाहर आ गये.
अब हमें भूख भी लगने लगी थी.

मैंने खाना ऑर्डर किया.
खाना खाने के बाद दीदी बोलीं- चलो मूवी देखने चलते हैं.
मैंने कहा ठीक है.

बहन ने पूछा- क्या पहनूं?
‘वह पहनो जो जल्दी खुल जाए।’

दीदी ब्रा पहनने लगी.
मैंने मना कर दिया।

दीदी ने गाउन पहना था, बिना ब्रा और पैंटी के.
इसमें सामने की तरफ पूरे बटन थे। कोई भी बटन खोलकर कुछ भी कर सकते थे.

दीदी के निपल साफ़ दिख रहे थे.
फिर दीदी ने दुपट्टा डाला और हम चलने लगे.
मैंने आखिरी कोने में दो सीटें बुक की थीं।

मूवी भी बहुत सेक्सी थी. इसमें ज्यादा भीड़ भी नहीं थी.
पूरे हॉल में 20 लोग रहे होंगे.

अँधेरा होते ही मैं अपनी बहन के मम्मे दबाने लगा.
बहन की Pink Chut पर हाथ रख दिया.

दीदी ने मना कर दिया.
वो बोली- मेरा गाउन खराब हो जायेगा.

मैं भी नहीं चाहता था कि मेरी बहन को कोई परेशानी हो.
इंटरवल के दौरान मैं टिश्यू पेपर लेकर आया.

वो बोली- हम इसका क्या करेंगे?
मैंने कहा- तुम्हें जल्दी ही पता चल जायेगा.

सबसे पहले बहन जाकर बैठ गयी.
मैं नीचे से बटन खोलने लगा.

दीदी बोलीं- क्या कर रहे हो?
मैंने पेट तक के बटन खोल दिए और कहा- बस कूदो.

वो उछली तो मैंने पीछे से उसका गाउन उठाया और उसकी चूत में उंगली करने लगा.
दीदी ने सेक्सी स्माइल दी.

उसने भी मेरा लंड बाहर निकाल लिया.
मैंने अपनी बहन को चूसने को कहा.

वो बोली- यहीं?
मैने हां कह दिया।

वो लंड चूसने लगी.
मैं उसकी चूत में उंगली करने लगा.
मैं दीदी के मुँह में स्खलित हो गया और दीदी सीट पर स्खलित हो गईं।

दीदी मेरा सारा माल पी गयी.
फिर मैंने टिश्यू पेपर से दीदी का चेहरा और जांघें पोंछ दीं.

बाद में हम दोनों घर के लिए निकल गये.
अगले दिन दीदी ने इंटरव्यू दिया और चयनित हो गईं.

जब भी मौका मिलता है हम घर पर सेक्स का मजा लेते हैं.

एक दिन दीदी ने पापा से कहा- माहुल को भी मेरे साथ वहाँ भेज दो। माहुल वहां पढ़ाई जारी रखेगा और मेरे साथ रहने के लिए कोई मिल जाएगा.

पापा मान गये और उन्होंने मुझे वहीं एक कॉलेज में दाखिला दिला दिया।
अब हम दोनों Bhai Bahan ki Chudai का मजा लेते हैं.

दीदी अपने लिए फ्लैट पर कोई बाहर का लंड लेकर आती है या कभी-कभी मैं किसी लड़की को ले आती हूं.

हम दोनों भाई बहन Group Sex Stories का भी मजा लेते हैं.

आपको मेरी Train Me behan ki Chudai की कहानी कैसी लगी, प्लीज कमेंट्स से जरूर बताएं।

ऐसे ही और Bhai Behan Ki Sex Stories पढ़ने के लिए Readxstories.com को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले नई 2023 की Hindi Sex Story ऑफ है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds